Monday, April 6, 2009

Jisko bhi dekho uska daman bhiga lagta hai



Iss basti mai kon hamaray ansoo poonchay ga...!
Jiss ko dekho uss ka daman bheega lagta hai...!!!

दीवारों से मिलकर रोना अच्छा लगता है,
हम भी पागल हो जायेगा ऐसा लगता है.

दुनियाभर कि यादें हमसे मिलने आती है,
शाम ढले इस सूने घर मी मेला लगता है.

कितने दिनों के प्यासे होंगे यारो सोचो तो,
शबनम का कतरा भी जिनको दरिया लगता है.

किसको “कैझर” पथ्थर मारूँ कौन पराया है,
शीश महल मी एक एक चेहरा अपना लगता है.

2 comments:

Jaydip Mehta (JD) said...

su vaat chhe giri bapu ...

pan ek vastu khabar no paydi .. aa tamara ideal Morari bapu no photo ahiya kem muyko chhe ??

Aparnathi said...

Etla mate kemk me pehli var aa ghazal emna pase thi sambhali hati